Tuesday, August 23, 2011

इन चन्द

इन चन्द लम्हों को, तो जी लेने दो,
डूब जाने दो, इनमें समां जाने दो,
न बाहर निकालो, अब तो बहने दो,
यूँ जिन्दगी को अब, बीत जाने दो,


.

No comments:

Post a Comment