Monday, August 29, 2011

क़त्ल कर

क़त्ल कर दिए गए, कितने अफ़साने मोहब्बत के,
यूँ ही बेबस से हो गए, कितने दीवाने मोहब्बत के,


.

No comments:

Post a Comment