Saturday, August 27, 2011

मजबूर दिल

मजबूर दिल का क्या करें,
कदम अपने-आप उधर चलें,
रोकने से अब वो क्या रुकें,
सर-ए-कलम की परवाह न करें,


.

No comments:

Post a Comment