Friday, August 26, 2011

इस तरह

इस तरह की अदा,
सिरहन सी दौड़ा जाती है,
न चाहते हुए फ़िदा,
आग सी लगा जाती है,

.



No comments:

Post a Comment