Saturday, August 27, 2011

ये मोहब्बत

ये मोहब्बत है की फ़ना हो जाती है,
इज्जत की खातिर,
न सोचती न समझती है, मर जाती है,
लाज की खातिर,


.

No comments:

Post a Comment