Friday, August 5, 2011

न समझ

यूँ न समझ अब हुश्न रोता नहीं है |
आँशु तो टपकते हैं, पर दिखते नहीं है |


.

No comments:

Post a Comment