Saturday, August 27, 2011

फातिबा लगाकर

ये तू है या कोई और है,
तेरे चेहरे से टपकता नूर है,
किसी और का फातिबा लगाकर,
क्यों बहला रही है यूँ, फुसलाकर,

No comments:

Post a Comment