Friday, August 5, 2011

हर मुसीबत

हर मुसीबत की जड़,
ये निगाह होती है,
तेरे हुश्न का न कसूर,
ये तुझपे फ़ना होती है,

.

No comments:

Post a Comment