Friday, August 26, 2011

मेरे महबूब

मेरे महबूब, इस तन्हाई में,
तेरा साथ भी, गवांरा न था,
तू कहीं थीं, मैं और कहीं था,
एक-दुसरे का तस्सवुर भी गंवारा न था,


.

No comments:

Post a Comment