Saturday, August 27, 2011

यूँ जिस्म

यूँ जिस्म को, छोड़ते हुए,
किसी की रूह को देखा है,
झटका-सा लगते हुए,
रोमा-रोमा कांपते देखा है,


.

No comments:

Post a Comment