Wednesday, August 24, 2011

मकसदों का

मकसदों का आलम, रास्तों की थकान मिटा देता है,
पहुँच जाता है, मंजिल पर सब कुछ यूँ भुला देता है,


.

No comments:

Post a Comment