Friday, August 26, 2011

तुम्हारा हुश्न

तुम्हारा हुश्न भी कम नहीं है,
तुम्हें किसी बात का गम नहीं है,
हर फरमाईश होती तुम्हारी पूरी,
तुम हो खुले ख्यालों से भरी पूरी,

.



No comments:

Post a Comment