Friday, August 26, 2011

नजरिया इंसान

नजरिया इंसान का, नज़र से नज़र आ जाता है |
वो कहे भी न, उसकी नज़र में नज़र आ जाता है |
नज़रों की बोली सीखी नहीं जाती |
नज़रों से नज़रें बस ताड़ लीं जाती |

.

No comments:

Post a Comment