Tuesday, August 23, 2011

उदास थी

उदास थी महफ़िल, गमजदों का जमावड़ा था,
सब के दिल टूटे थे, यही तो एक मुहावरा था,

.

No comments:

Post a Comment