Saturday, August 27, 2011

इन मह्ताबों

इन मह्ताबों से, मरकजों की खातिर,
इन फब्तीनों से, नज़रनूरों की खातिर,


.

No comments:

Post a Comment