Friday, August 26, 2011

अब तो

अब तो न जाने,
हसीनों का हुश्न,
नजाकत कहाँ खो गयी,
सब अब बहाया हो गयी,


.

No comments:

Post a Comment