Monday, August 29, 2011

ज़ुरूर-ए-हुश्न

न ज़ुरूर-ए-हुश्न की, न पैमाईश की थी,
इरादा-ए-इश्क में, न फरमाईश की थी,
वो तो यूँ ही रुसवा हो गए, फ़क्त की वो,
न जाने क्या सुना,हमसे दूर हो गए वो,

.



No comments:

Post a Comment