Saturday, August 27, 2011

कशमकश की

कशमकश की जिन्दगी में,
इसकी सुनूँ की, उसकी सुनूँ,
दिल की दिल में रहने दूँ,
या सारे जहाँ से कह दूँ,


.

No comments:

Post a Comment