Saturday, August 27, 2011

इस मेले

इस मेले में सब अपनी-अपनी चीजे बेचते हैं |
कोई हुनर बेचता है, कोई हुनरवाली बेचते हैं |
खरीददार बहुत घूम रहे, मज़े हैं सब ले रहे |
जिसके जेब में पैसे हैं, वो मेला अब देख रहे |

.



No comments:

Post a Comment