Wednesday, August 24, 2011

सपने गर

सपने गर हकीकत की दहलीज़ को पार करते हैं |
जिन्दगी में वो एक अजीब सा अहसास भरते हैं |


.

No comments:

Post a Comment