Friday, August 26, 2011

पैगाम भी

पैगाम भी चुपके से पड़ लेते हैं,
सबकी नज़रों से बचके रो लेते हैं,
हुकूक-सा दिल में उठता है,
उसको किसी तरह संभाल लेते हैं,


.

No comments:

Post a Comment