Friday, August 26, 2011

न अब

न अब यूँ,
हुश्न छुपा तू,
दीदार तो करा दे,
मुखड़ा तो देखा दे,


.

No comments:

Post a Comment