Saturday, August 27, 2011

सुकून-ओ-हस्क

सुकून-ओ-हस्क की स्याही, अब मिलती नहीं,
गम-ओ-फस्क, कलम आसुओं में डुबाई सही,


.

No comments:

Post a Comment