Monday, August 22, 2011

उफनती सी

उफनती सी नदी में, तैरने की मजबूरी है,
इस तरफ बेगैरत है, उस तरफ मजदूरी है,


.

No comments:

Post a Comment