Wednesday, August 24, 2011

बनकर परिन्दा

बनकर परिन्दा उड़ा,
सारा जहाँ नाप आया,
अपने घोसले को छोड़,
कोई घोसला ना भाया,


.

No comments:

Post a Comment