Wednesday, August 24, 2011

जख्म अब

जख्म अब भरें कैसे,
मरहम अब लगायें कैसे,
हकीम को दिखता नहीं,
जालिम दुखता भी नहीं,


.

No comments:

Post a Comment