Friday, August 26, 2011

चड़ी हुई

चड़ी हुई आखें, कुछ कह रही हैं,
वो यहाँ नहीं, किसी और मकाँ की खबर दे रही हैं,

.

No comments:

Post a Comment