Tuesday, August 23, 2011

बस यूँ

बस यूँ ही कुछ न कुछ चलता रहता,
जिन्दगी का हर पल गुज़रता रहता,
कुछ खास-सा न हम कर पाते,
गर वो हमारा साथ न निभाते,


.

No comments:

Post a Comment