Friday, August 26, 2011

हुश्न बेरुखी

हुश्न बेरुखी दिखाता है,
लाज से वो डरता है,
अब तो मिलने से भी कतराता है,
याद बहुत आता है,


.

No comments:

Post a Comment