Sunday, August 28, 2011

यूँ खुलाशा

यूँ खुलाशा गर करने लगें तो बहुत से दिल टूट जायेंगे,
बहुत हमसे रूठ जायेंगे, बहुत से घर यूँ ही टूट जायेंगे,
इसलिए रहते हैं, यूँ न होने देते हैं, पर्दा-ए-फास राज़,
कुछ उनको जी लेने देते हैं, कुछ हम भी जी लेते आज,

No comments:

Post a Comment