Monday, August 22, 2011

वाजिब वजह

वाजिब वजह न मिल रही थी, कोई बहाना कर लूं,
तेरे दीदार के लिए, रोज़ तेरे घर आना-जाना कर लूं,



No comments:

Post a Comment