Friday, August 26, 2011

इक्तिलाखे यूँ

इक्तिलाखे यूँ न पसर,
घर ये तेरा नहीं है,
जारी है सफ़र तेरा,
आरामगाह तेरा यही है,


.

No comments:

Post a Comment