Sunday, August 28, 2011

निगाहों से

निगाहों से गर क़त्ल किया, तो फरियाद कैसे करेंगे |
आहों से जो क़त्ल किया, मेरी जान आहें कैसे भरेंगे |

Nigahon Se Gar Katl Kiya, To Fariyad Kaise Karenge,
Aahon Se Jo Katl Kiya, Meri Jaan Aahen Kaise Bhagenge,

.





.

No comments:

Post a Comment