Friday, August 26, 2011

पत्थरों के

पत्थरों के साए में,
मौत यूँ गुजरती है,
तेरी भी क्या गलती है,
मेरी भी क्या गलती है,


.

No comments:

Post a Comment