Sunday, August 28, 2011

चाँद से

चाँद से क्यूँ पूछते हो, चिरागों को क्यूँ जलने दें,
रौशनी तेरी है बहुत, बैरागों को क्यूँ मचलने दें,


.

No comments:

Post a Comment