Monday, August 22, 2011

तो शायर

यूँ तो शायर होना हमारे नसीब में नहीं |
यूँ ग़मों का होना, हमारे नसीब में नहीं |


.

No comments:

Post a Comment