Thursday, August 25, 2011

निगाहों से

निगाहों से न पूछो, वो क्यों रो रहीं हैं,
इशारों ही इशारों में, कुछ कह रही हैं,

.



No comments:

Post a Comment