Saturday, August 27, 2011

रूह तो

रूह तो कब की चली गयी,
जिस्म अभी पड़ा है,
न टटोल उसे इस तरह,
क्यों अभी खड़ा है,


.

No comments:

Post a Comment