Friday, August 26, 2011

तन्हाईओं की

तन्हाईओं की अपनी महफ़िल में,
खूब मस्त हैं हम,
कोई कब यहाँ, आने न पाए,
जाम हमारे पीने न पाए,


.

No comments:

Post a Comment