Friday, August 26, 2011

अरमान पालकर

अरमान पालकर दिल में,
जिन्दा अभी तक हूँ,
कब का सुपुर्द हो खाक में,
जिन्दा अभी तक हूँ,

.



No comments:

Post a Comment