Wednesday, August 24, 2011

यूँ न

यूँ न अफसाना लिखा करो, किसी के प्यार का |
उन्हें भी कुछ, रख लेने दो अपने यूँ इज़हार का |


.

No comments:

Post a Comment