Monday, August 29, 2011

इख्लायियत में

इख्लायियत में मैंने,
गुस्ताखी क्या कर दी,
तू क्यूँ दूर-दूर रहती,
ऐसी क्या बदमाशी कर दी,


.

No comments:

Post a Comment