Friday, August 26, 2011

तिज़ारते हुकुम

तिज़ारते हुकुम उसका माना,
और रूह को फ़ना किया,
मज़े से अब मेरा गुज़र जाना,
किसी को पैगाम न दिया,


.

No comments:

Post a Comment