Saturday, August 27, 2011

पलट गयी

पलट गयी यूँ अपनी जबान से,
देखा न किसी किसी मकान से,
देखते रहे यूँ किसी की दुकान से,
कोई खनक तो टकराए कान से,


.

No comments:

Post a Comment