Wednesday, August 24, 2011

तुम बैठी

तुम बैठी हो गुमसुम सी,
हाथ पर हाथ धरे,
आखों में खोई सी,
लिए कोई आस सी,


.

No comments:

Post a Comment