Wednesday, August 24, 2011

तापने बैठे

तापने बैठे हैं,
सर्द रात है,
बतियाँ हो रही है,
रतियाँ यूँ कट रही हैं,

.



No comments:

Post a Comment