Saturday, August 27, 2011

अह्सासे-हुज़ुरियत

अह्सासे-हुज़ुरियत का इन्तखाब,
बज्में खायियत की जिन्दगी न थी,
उस रूह न निकली हर नज़्म,
तेरी नजरियत की जिन्दगी न थी,

.





No comments:

Post a Comment