Saturday, August 20, 2011

कब उठा

कब उठा जनाजा, कब कब्र में चले गए |
सुकून से अब सो रहे, बेफिक्र यूँ हो गए |


.

No comments:

Post a Comment