Saturday, August 20, 2011

इतना न

इतना न गम था, कुरेद-कुरेद कर बड़ा लिया |
उनपर था गुस्सा, अपना तमाशा बना लिया |


.

No comments:

Post a Comment