Saturday, August 20, 2011

तो ख्वाइश

अब तो ख्वाइश है कि, जी भर के जी लूं |
ग़मों को बहुत पिया, अब ख़ुशी से जी लूं |

.



No comments:

Post a Comment